Breaking News
Cooking Oil Price Reduce : मूंगफली तेल हुआ सस्ता, सोया तेल की कीमतों मे आई 20-25 रुपये तक की भारी गिरावट PM Kisan Yojana : सरकार किसानों के खाते में भेज रही 15 लाख रुपये, फटाफट आप भी उठाएं लाभ Youtube से पैसे कमाने हुए मुश्किल : Youtuber बनने की सोच रहे हैं तो अभी जान लें ये काम की बात वरना बाद में पड़ सकता है पछताना गूगल का बड़ा एक्शन, हटाए 1.2 करोड़ अकाउंट, फर्जी विज्ञापन दिखाने वाले इन लोगो पर गिरी गाज Business Ideas : फूलों का बिजनेस कर गरीब किसान कमा सकते है लाखों रुपए, जानें तरीका
Thursday, 18 April 2024

World

चीनी रक्षा मंत्री ने कहा, चीन को दुश्मन मानने की जिद एक ऐतिहासिक और रणनीतिक भूल होगी

12 June 2022 07:42 PM Mega Daily News
रक्षा,मंत्री,देशों,अमेरिका,ताइवान,संबंध,दोनों,उन्होंने,fenghe,शांगरीला,डायलॉग,हथियार,इस्तेमाल,चीनअमेरिका,महत्वपूर्ण,chinese,defense,minister,said,china,insistence,considering,enemy,would,historical,strategic,mistake

Wei Fenghe at Shangri-La Dialogue: चीनी रक्षा मंत्री जनरल वेई ने शांगरी-ला डायलॉग के आयोजन में कहा कि चीन ने नए परमाणु हथियार विकसित करने में 'प्रभावशाली प्रगति' की है, लेकिन वह केवल आत्मरक्षा के लिए उनका इस्तेमाल करेगा, और पहले कभी एटम बन नहीं चलाएगा.

Chinese Minister Wei Fenghe on India-China Conflict: चीन-अमेरिका संबंध एक बेहद महत्वपूर्ण और निर्णायक मोड़ पर होने का जिक्र करते हुए चीनी रक्षा मंत्री जनरल वेई फेंग ने रविवार को कहा कि चीन को किसी खतरे के तौर पर देखने और दुश्मन मानने की जिद एक ऐतिहासिक और रणनीतिक भूल होगी.

चीन के रक्षा मंत्री ने शांगरी-ला डायलॉग को संबोधित करते हुए कहा, ‘चीन का मानना ​​है कि चीन-अमेरिका संबंध न केवल इन दोनों देशों बल्कि बाकी दुनिया के हितों की पूर्ति करता है.’ उन्होंने कहा कि चीन और अमेरिका के बीच सहयोग वैश्विक शांति और विकास के लिए बेहद महत्वपूर्ण है.

टकराव से किसी को भी न होगा फायदा: चीन

जनरल वेई फेंग ने कहा, ‘टकराव से न तो हम दोनों देशों और न ही अन्य देशों को फायदा होगा. चीन द्विपक्षीय संबंधों को परिभाषित करने के लिए प्रतिस्पर्धा की भावना का इस्तेमाल करने का विरोध करता है.’

उन्होंने कहा कि चीन को एक खतरे के तौर पर देखने और दुश्मन मानने की जिद एक ऐतिहासिक और रणनीतिक भूल होगी. जनरल वेई फेंग ने अमेरिकी पक्ष से कहा कि वह चीन के आंतरिक मामलों में दखल नहीं दे और चीन के हितों को नुकसान पहुंचाना भी बंद करें.'

अमेरिका पर आरोप

उन्होंने कहा, 'जब तक अमेरिकी पक्ष ऐसा नहीं करता तब तक दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय संबंध नहीं सुधर सकते.' अमेरिका के रक्षा मंत्री लॉयड ऑस्टिन ने शनिवार को चीन पर स्वशासन वाले द्वीप ताइवान पर अपने दावे और उस क्षेत्र में ‘अपनी अस्थिरकारी सैन्य गतिविधियों’ से अस्थिरता पैदा करने का आरोप लगाया था.

ताइवान पर क्या करेगा चीन?

गौरतलब है कि 1949 में गृहयुद्ध के दौरान ताइवान और चीन अलग हो गए थे. लेकिन, चीन स्व-शासित द्वीप को अपना एक हिस्सा मानता है और वह इसे बलपूर्वक भी मुख्य भूमि के साथ फिर से जोड़ना चाहता है. चीन अमेरिका द्वारा ताइवान को हथियार बेचे जाने का लगातार विरोध करता है. 

whatsapp share facebook share twitter share telegram share linkedin share
Related News
Latest News