Breaking News
माधुरी दीक्षित के साथ जब इस अभिनेता ने कर दी थी गलत हरकत, फुट-फुटकर रोई थी माधुरी हेमा मालिनी और धर्मेंद्र पर टूटा दुखो का पहाड़, बेटी को लेकर आयी बेहद बुरी खबर, पूरा परिवार सदमे में मात्र 417 रुपये का निवेश बना सकता है करोड़पति, हो जायेंगे मालामाल, ऐसे समझे इन्वेस्टमेंट गणित Ration Card New Rule : मुफ्त राशन पर बदल गया नियम, गेहूं और चावल के लिए जरूरी करें यह काम Gold-Silver Price Today : सुबह – सुबह धड़ाम हुए सोने के दाम, खरीददारी करने टूटे लोग, गिरकर 47 हजार के नीचे पहुंच रेट
Sunday, 03 March 2024

World

रूस ने क्यों उतारे भाड़े के 20 हजार लड़ाके, इससे उसे क्या फायदा मिलेगा, जाने पूरी डिटेल

22 April 2022 08:28 AM Mega Daily News
किराए,यूक्रेन,लड़ाकों,युद्ध,लड़ाके,तैनात,मुताबिक,भाड़े,डिफेंस,एक्सपर्ट,शैलेंद्र,जरूरत,दुनिया,सैनिक,देशों,,russia,hire,20,thousand,fighters,benefit,get,know,full,details

Russia को यूक्रेन में जंग छेड़े हुए 50 दिन से ज्यादा हो चुके हैं. अभी भी दुनिया की सबसे बड़ी ताकतों में से एक रूस यूक्रेन को झुकाने में कामयाब नहीं हो पाया है. इस काम के लिए रूस ने अब किराए के लड़ाकों को काम पर लगाया है. 

रूस ने हायर किए लड़ाके

रूस ने यूक्रेन में अपनी लड़ाई और तेज कर दी है. इसी के तहत अब रूस ने किराए के सैनिक भी यूक्रेन में तैनात करने शुरू कर दिए हैं. ब्रिटेन के एक रिपोर्ट के मुताबिक रूस ने सीरिया, लीबिया सहित अन्य देशों के किराए के लड़ाकों को यूक्रेन में लड़ने के लिए भेजा है. अखबार के मुताबिक करीब 20 हजार किराए के लड़ाकों को रूस ने यूक्रेन के डोनबास इलाके में तैनात किया है. रशियन कंपनी द वागनर ग्रुप ने इन भाड़े के लड़ाकों को किराए पर लिया है. इन्हे इनकी रैंक के मुताबिक 600 डॉलर से 3000 डॉलर तक हर महीने मेहनताने के तौर पर दिए जा रहे हैं. 

भाड़े के लड़ाकों से बढ़ती है क्रूरता!

युद्ध मानवता के खिलाफ होने वाला एक अत्याचार है. एक दुर्भाग्यपूर्ण कहावत है प्यार और जंग में सब जायज है. सवाल उठता है कि आखिर रूस का इन लड़ाकों को यूक्रेन में तैनात करने के पीछे क्या मकसद है? इस सवाल के जवाब के तौर पर डिफेंस एक्सपर्ट शैलेंद्र सिंह ने बताया कि जब इस तरह के भाड़े के लड़ाके युद्ध में उतारे जाते हैं तो युद्ध की क्रूरता और बढ़ जाती है. रूस का मकसद भी यही है कि यूक्रेन की जनता पर क्रूरता और अत्याचार को और बढ़ाया जाए. इससे युद्ध के नियमों के खिलाफ किए जाने वाले सभी तरह के गंदे और अनैतिक काम उन्हे खुद करने की जरूरत नहीं पड़ेगी.

रूसी सैनिकों की जान बचाने के लिए उठाया कदम

दूसरा सवाल उठता है कि दुनिया की सबसे बड़ी सेना वाले देशों में शामिल रूस को आखिर किराए के लड़ाकों की जरूरत क्या था? इस बारे में डिफेंस एक्सपर्ट शैलेंद्र सिंह का कहना है कि अपने सैनिकों को मौत के मुंह में जाने से बचाने के लिए रूस को ये कदम उठाने की जरूरत पड़ी.

क्या होते हैं किराए के लड़ाके?

किराए के लड़ाके ऐसे सैनिक होते हैं जो युद्ध कर रही दोनों सेनाओं में से किसी के भी सदस्य नहीं होते हैं. अपने निजी फायदे के लिए किसी एक सेना की तरफ से लड़ते हैं. डिफेंस एक्सपर्ट शैलेंद्र सिंह ने बताया कि किराए के लड़ाके युद्ध में लड़ने के एवज में एक कीमत लेते हैं. जीत के लिए ये किसी भी हद तक उतर सकते हैं. ये बेरहम होते हैं.'

whatsapp share facebook share twitter share telegram share linkedin share
Related News
Latest News