Breaking News
माधुरी दीक्षित के साथ जब इस अभिनेता ने कर दी थी गलत हरकत, फुट-फुटकर रोई थी माधुरी हेमा मालिनी और धर्मेंद्र पर टूटा दुखो का पहाड़, बेटी को लेकर आयी बेहद बुरी खबर, पूरा परिवार सदमे में मात्र 417 रुपये का निवेश बना सकता है करोड़पति, हो जायेंगे मालामाल, ऐसे समझे इन्वेस्टमेंट गणित Ration Card New Rule : मुफ्त राशन पर बदल गया नियम, गेहूं और चावल के लिए जरूरी करें यह काम Gold-Silver Price Today : सुबह – सुबह धड़ाम हुए सोने के दाम, खरीददारी करने टूटे लोग, गिरकर 47 हजार के नीचे पहुंच रेट
Friday, 01 March 2024

Auto and tech

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के द्वारा अब डॉक्टर्स करेंगे बीमारी का इलाज

12 May 2022 01:55 AM Mega Daily News
डॉक्टर,बीमारी,कंप्यूटर,टेक्नोलॉजी,लेकिन,साथसाथ,भूमिका,पढ़ता,सेंटर,एनालिसिस,विश्लेषण,टेस्ट,जरूरत,स्पीड,डॉक्टर्स,doctors,cure,disease,artificial,intelligence,treat

आपके इलाज में डॉक्टर के साथ-साथ इंजीनियर (Engineer) की भी बड़ी अहमियत होती है. वर्ल्ड टेक्नोलॉजी डे (World Technology Day) पर मेडिकल साइंस में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI) की महत्वपूर्ण भूमिका है. 

कंप्यूटर भी पढ़ता है रिपोर्ट्स

आपको एक ऐसे डायग्नोस्टिक सेंटर (Diagnostic Center) में ले चलते हैं जहां आपके एक्स रे और सीटी स्कैन को डॉक्टर के साथ-साथ कंप्यूटर भी पढ़ता है. ऐसा एनालिसिस भारत (India) में एकाध सेंटर में ही मौजूद है. दुनिया के कुछ विकसित देश ऐसी एआई तकनीक को इस्तेमाल करते हैं. कंप्यूटर (Computer) आपकी बीमारी का विश्लेषण करता है और उस हिस्से को हाइलाइट कर देता है जहां बीमारी फैली है. 

कैसे काम करता है ये सिस्टम?

अगर बीमारी (Disease) गंभीर है तो कंप्यूटर सभी टेस्ट में से उस व्यक्ति के टेस्ट को सबसे ऊपर ले आता है जिसे तुरंत देखे जाने की जरूरत है. लेकिन यहीं डॉक्टर (Doctor) की भूमिका अहम हो जाती है. कई रिजल्ट ऐसे होते हैं जिसमें सॉफ्टवेयर का विश्लेषण (Software Analysis) और डॉक्टर की सोच एक नहीं होती. इसे कहते हैं वैलिडेशन यानी सिस्टम ने बताया कि बीमारी है लेकिन डॉक्टर के मुताबिक बीमारी नहीं है.

इलाज की बढ़ सकती है स्पीड

लिहाजा डॉक्टर्स मानते हैं कि टेक्नोलॉजी इलाज (Treatment) की स्पीड बढ़ा सकती है और डेटा का एनालिसिस दे सकती है. टेक्नोलॉजी डॉक्टर का जीवन आसान बना सकती है लेकिन पूरी तरह से एआई (AI) पर निर्भर हो पाने में कई साल लगेंगे. अभी उस वक्त के आने में काफी समय है जब डॉक्टर्स यकीन से कह सकेंगे कि अब उनकी जरूरत नहीं है.

whatsapp share facebook share twitter share telegram share linkedin share
Related News
Latest News