Breaking News
Cooking Oil Price Reduce : मूंगफली तेल हुआ सस्ता, सोया तेल की कीमतों मे आई 20-25 रुपये तक की भारी गिरावट PM Kisan Yojana : सरकार किसानों के खाते में भेज रही 15 लाख रुपये, फटाफट आप भी उठाएं लाभ Youtube से पैसे कमाने हुए मुश्किल : Youtuber बनने की सोच रहे हैं तो अभी जान लें ये काम की बात वरना बाद में पड़ सकता है पछताना गूगल का बड़ा एक्शन, हटाए 1.2 करोड़ अकाउंट, फर्जी विज्ञापन दिखाने वाले इन लोगो पर गिरी गाज Business Ideas : फूलों का बिजनेस कर गरीब किसान कमा सकते है लाखों रुपए, जानें तरीका
Saturday, 20 April 2024

States

बीमारी का कहर: कोरोना के साथ अब नई बीमारी से लोगों की जान मुसीबत में, जाने क्या हैं नई बीमारी

19 April 2022 08:30 AM Mega Daily News
सुअरों,फार्म,बीमारी,सरकार,मारने,मुताबिक,जाएगा,अफ्रीकन,स्वाइन,african,swine,fever,फैलने,रिपोर्ट,त्रिपुरा,havoc,disease,corona,peoples,lives,trouble,due,new,know

मिजोरम के बाद अब अफ्रीकन स्वाइन फीवर (African Swine Fever) ने त्रिपुरा में भी एंट्री कर ली है. बीमारी को फैलने से रोकने के लिए त्रिपुरा सरकार ने बड़े पैमाने पर सुअरों को मारने का आदेश दिया है.

सेपाहिजला जिले में चलता है सुअरों का फार्म

रिपोर्ट के मुताबिक त्रिपुरा के सेपाहिजला जिले में एनिमल रिसोर्सेज डेवलपमेंट डिपार्टमेंट की ओर से एनिमल ब्रीडिंग फार्म चलाया जाता है. इस फार्म में सुअरों की जांच के दौरान उनमें कुछ में अफ्रीकन स्वाइन फीवर (African Swine Fever) के लक्षण पाए गए. 

13 सुअर मिले बुखार से संक्रमित

इसकी सूचना मिलने के बाद राजधानी अगरतला से वेटरनिरी डॉक्टरों की एक्सपर्ट टीम 7 अप्रैल को जांच के लिए फार्म में भेजी गई, जिसने 13 अप्रैल को अपनी रिपोर्ट सरकार को सौंप दी है. इस रिपोर्ट में बताया गया है कि 13 सुअरों में अफ्रीकन स्वाइन फीवर (African Swine Fever) का संक्रमण पाया गया है. 

दूसरे सुअरों में भी बीमारी फैलने का अंदेशा

आशंका जताई जा रही है कि यह बीमारी फार्म में रहने वाले दूसरे जानवरों खासकर सुअरों में भी फैल चुकी है. हालांकि उनमें इस बीमारी के लक्षण अभी सामने नहीं आए हैं, जिसके चलते रिपोर्ट में बाकी जानवरों में बीमारी फैलने की पुष्टि नहीं हो पा रही है. 

फार्म के सभी सुअरों को मारने का फैसला 

हालात से निपटने के लिए बड़े पैमाने पर सुअरों को मारने का फैसला लिया गया है. सूत्रों के मुताबिक इस काम के लिए सरकार ने 2 टास्क फोर्स का गठन किया है. हरेक टास्क फोर्स में 10-10 लोगों को रखा गया है. इन टीमों की अगुवाई वेटरनिरी अफसर करेंगे. 

शुरुआत में संक्रमित पाए गए 13 सुअरों को मारा जाएगा. उसके बाद बाकी सुअरों की जांच के बाद उन्हें भी मार दिया जाएगा. मारने के बाद उन्हें दफनाने के लिए 8 गुणा 8 फीट का गड्ढा खोदा जाएगा. 

केंद्र सरकार से मांगी जा रही अनुमति

सूत्रों के मुताबिक बीमारी फैलने से रोकने के लिए फार्म के अंदर रहने वाले सुअरों के अलावा उसके 1 किलोमीटर के रेडियस में रहने वाले बाकी सुअरों को भी मारा जाएगा. जिससे यह बीमारी इसी फार्म तक रोकी जा सके और पूरे राज्य में न फैल सके. सूत्रों के मुताबिक सुअरों का मारने की अनुमति के लिए केंद्र सरकार को पत्र भेजा जा रहा है. वहां से मंजूरी आने के बाद इस काम को अंजाम दिया जाएगा. 

फार्म में काम करने वाले लोगों के मुताबिक फार्म में 265 वयस्क सुअर और 185 उनके बच्चे हैं. पिछले दिनों उनमें से 63 सुअर अचानक मर गए. उनकी अचानक हुई मौत से फार्म में काम करने वालों के कान खड़े हो गए. जिसके बाद हुई जांच में पाया गया कि मरने वाले सभी सुअर अफ्रीकन स्वाइन फीवर (African Swine Fever) से संक्रमित हो गए थे.

whatsapp share facebook share twitter share telegram share linkedin share
Related News
Latest News