Breaking News
Cooking Oil Price Reduce : मूंगफली तेल हुआ सस्ता, सोया तेल की कीमतों मे आई 20-25 रुपये तक की भारी गिरावट PM Kisan Yojana : सरकार किसानों के खाते में भेज रही 15 लाख रुपये, फटाफट आप भी उठाएं लाभ Youtube से पैसे कमाने हुए मुश्किल : Youtuber बनने की सोच रहे हैं तो अभी जान लें ये काम की बात वरना बाद में पड़ सकता है पछताना गूगल का बड़ा एक्शन, हटाए 1.2 करोड़ अकाउंट, फर्जी विज्ञापन दिखाने वाले इन लोगो पर गिरी गाज Business Ideas : फूलों का बिजनेस कर गरीब किसान कमा सकते है लाखों रुपए, जानें तरीका
Wednesday, 17 April 2024

Rajasthan

मिसाल : भारत का सबसे बडा संयुक्त परिवार, जहाँ 75 किलो आटे की रोटियां बनती है

24 May 2022 01:42 AM Mega Daily News
परिवार,सयुक्त,बताया,दूसरे,इसलिए,तकरीबन,बताते,रहोगे,चुनावो,ज्यादातर,परंपरा,अनुसार,अनुभव,भागते,मिसाल,,example,indias,largest,joint,family,75,kg,flour,rotis,made

आज ज्यादातर लोग जहा छोटे परिवार की और आगे बढ रहे हे या सयुक्त परिवार मे दूर भाग रहे वही कुछ परिवार आज भी भारत की परंपरा के अनुसार सयुक्त परिवार मे रहना पसंद करते हे. आज के युवा परिवार के साथ रहने मे जहा शर्म अनुभव करते हे या सास ससुर मा बाप की सेवा न करनी पडे इसलिए परिवार से दूर भागते नजर आते हे वही कुछ परिवार आज भी समाज के लिए मिसाल बने हुए हे.

अपने शायद मिजोरम के जिओन परिवार के बारे मे सुना होगा जो 180  लोगो का परिवार साथ रहता हे. मगर देश का सबसे बडा परिवार राजस्थान के अजमेर मे रहता हे. आइये जानते हे इस परिवार के बारे मे. आपको बतादे की यह परिवार मे तकरीबन 10 चूल्हे जलाये जाते हे तब जेक सबका पेट भर पाता हे. यहा तकरीबन 185 लोग रहते हे. आप इससे सोच सकते हे की आज जहा 4,5 लोग साथ नही रह पते वहा 185 लोग मिलजुल के रहते हे.

भागचंद माली बताते हे की उनके दादा सयुंक्त परिवार मे मानते थे और उन्होंने ही साथ रहने की सिख दी थी और बताया था साथ रहोगे उतने मजबूत रहोगे एक दूसरे की मदद कर पाओगे, सुख दुःख साथ मे बाट पाओगे. उनके दादा का नाम सुलतान माली था जिनके 6 बेटे थे, जिनमे भंवर लाल सबसे बडे थे. दादा उनको साथ रहने की सिख देते आते इसलिए सभी भाई साथ रहे, तो दूसरी और उनके बच्चे भी अपनी पिता के रह पर चलते हुए साथ रहे,इसका नतीजा आज भी उनका परिवार साथ है.

परिवार ने आगे बताया की जब नया सदस्य परिवार का हिस्सा बनता हे तो शरू मे थोड़ी मुश्किलें आती हे मगर फिर वह परिवार की सोच के साथ जुड़ जाता हे.  परिवार के लोगो ने बताया की चुनावो मे भी उनको खास जटावज्यो दी जाती हे. उनके घर के ही 125 वोट होने की वजह से सरपंच से लेके बडे चुनावो मे नेतागण मिलने आ पोहचते हे.

परिवार के लोग बताते हे की सयुक्त परिवार मे आर्थिक समस्या कम रहती हे. साथ ही अगर सयुक्त परिवार मे रहना हे तो एक दूसरे की छोटी मोटी गलतिया माफ करना सीखना होगाया नजरअंदाज करना होगा तभी एक परिवार सियुक्तता से चल सकता हे. परिवार मे आपसी समज और एक दूसरे के लिए त्याग भावना भी जरुरी हे. सियुक्त परिवार से मेन्टल हेल्थ भी अछि रहनेका अनुमान बताया जाता हे.

whatsapp share facebook share twitter share telegram share linkedin share
Related News
Latest News