Breaking News
Cooking Oil Price Reduce : मूंगफली तेल हुआ सस्ता, सोया तेल की कीमतों मे आई 20-25 रुपये तक की भारी गिरावट PM Kisan Yojana : सरकार किसानों के खाते में भेज रही 15 लाख रुपये, फटाफट आप भी उठाएं लाभ Youtube से पैसे कमाने हुए मुश्किल : Youtuber बनने की सोच रहे हैं तो अभी जान लें ये काम की बात वरना बाद में पड़ सकता है पछताना गूगल का बड़ा एक्शन, हटाए 1.2 करोड़ अकाउंट, फर्जी विज्ञापन दिखाने वाले इन लोगो पर गिरी गाज Business Ideas : फूलों का बिजनेस कर गरीब किसान कमा सकते है लाखों रुपए, जानें तरीका
Wednesday, 17 April 2024

Rajasthan

ज्ञानवापी मंदिर के बाद अब अजमेर दरगाह का भी सर्वे करने की मांग उठी

26 May 2022 09:53 AM Mega Daily News
दरगाह,ताजमहल,संगठन,अध्यक्ष,परमार,स्वास्तिक,चालीसा,मंदिर,अजमेर,महाराणा,प्रताप,maharana,pratap,राजवर्धन,तस्वीर,,gyanvapi,temple,demand,survey,ajmer,dargah,also,arose

ज्ञानवापी मंदिर को लेकर अभी तक कोर्ट का अंतिम फैसला नही आया है. इसी बीच कुतुब मीनार और ताजमहल के बाद अजमेर की हजरत ख्वाजा गरीब नवाज दरगाह (Ajmer Dargah) को लेकर चौंकाने वाला दावा किया जा रहा है. दरअसल महाराणा प्रताप सेना (Maharana Pratap Sen) के संस्थापक राजवर्धन सिंह परमार (Rajvardhan Singh Parmar) ने फेसबुक पर एक पोस्ट किया. उस तस्वीर को वर्तमान अजमेर की हजरत दरगाह की किसी हिस्से की बताई जा रही है. 

इस तस्वीर में नजर आ रही एक खिड़की के हिस्से पर स्वास्तिक बने होने का दावा किया जा रहा. तस्वीर के ऊपर लिखे गए कैप्शन 'अजमेर की दरगाह में भी लोचा है! दरवाजों पर स्वास्तिक का क्या काम है? इस्लाम में स्वास्तिक चिन्ह तो नापाक है. यह दरगाह पृथ्वीराज के द्वारा बनाया गया एकलिंग मंदिर को कब्जा करके बनाई गई है.'

ASI से दरगाह का सर्वे करवाने की मांग

इस दावे को लेकर संगठन अध्यक्ष ने राजस्थान मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को पत्र भी लिखा. पत्र के मुताबिक अजमेर स्थित हजरत ख्वाजा दरगाह (Ajmer Dargah) एक प्राचीन मंदिर है. पत्र में दरगाह की दीवारों से हिंदू धर्म से संबंधित कमल के फूल और स्वास्तिक जैसे प्रतीक मिलने का दावा भी किया गया है. इतना ही नहीं, पत्र में ये अनुरोध भी किया गया कि भारतीय पुरातत्व विभाग से सर्वेक्षण भी कराया जाए. सर्वेक्षण के परिणाम स्वरूप हिंदू धर्म के प्रतीक मिलने के लिए भी आश्वस्त किया गया है. 

इस पत्र की प्रतिलिपि राष्ट्रपति, राजस्थान के राज्यपाल, केंद्रीय मंत्री जी किशन रेड्डी, अर्जुन मेघवाल और केंद्रीय मंत्री मीनाक्षी लेखी को भी भेजा गया है. संगठन अध्यक्ष ने इस मामले को लेकर कोर्ट में कानूनी तौर पर अर्जी देने की भी बात कही है. इसी मामले को लेकर संगठन आज यानि 26 मई को सुबह 11 बजे प्रेस कांफ्रेंस भी करेगा.

सड़कों से मुगलों के नाम हटाने का भी आग्रह

गौरतलब है कि इससे पहले संगठन (Maharana Pratap Sen) ने राजधानी दिल्ली की तीन सड़कों के नाम बदलने की मांग की थी. जिसमें अकबर रोड का नाम बदलकर महाराणा प्रताप मार्ग, शाहजहां रोड का नाम बदलकर परशुराम मार्ग और हुमायूं रोड का अहिल्याबाई होलकर करने की मांग की थी. आधिकारिक तौर पर नाम ना बदले जाने की स्थिति के सवाल पर राजवर्धन ने बीजेपी को चेताया कि आने वाले आम चुनाव में संगठन और समाज के लोग बीजेपी का बहिष्कार करेंगे.

30 मई को ताजमहल में पढ़ेंगे शिव चालीसा

आपको बता दें कि महाराणा प्रताप सेना (Maharana Pratap Sen), ताजमहल का नाम बदलकर तेजोमहल रखने की मांग कर रही है. अध्यक्ष परमार (Rajvardhan Singh Parmar) के मुताबिक आने वाली 30 मई को तकरीबन 4 से 5 लाख लोग ताजमहल की तरफ रुख करेंगे और ताजमहल परिसर के भीतर शिव चालीसा का पाठ करेंगे. अध्यक्ष का कहना है कि ताजमहल में शिव चालीसा के पाठ की अनुमति के लिए स्थानीय प्रशासन, प्रदेश के मुख्यमंत्री और डीजीपी को पत्र लिख दिया है. अनुमति ना भी मिलने पर भी वे परिसर के अंदर इस कार्यक्रम को संपन्न करेंगे. अध्यक्ष परमार ने पुलिस को रोकने की चुनौती भी दे डाली. लखनऊ के केंद्रीय कार्यालय से इस अभियान की शुरुआत होगी.

इसके साथ संगठन ने चेतावनी दी कि जल्द ही असदुद्दीन ओवैसी के सभी आवासों पर गंगाजल छिड़क कर उसका शुद्धिकरण किया जाएगा. राजवर्धन सिंह परमार के मुताबिक एक ही रट लगाने वाले असदुद्दीन के आवास के सामने शिव चालीसा भी की जाएगी. अगर इसे अपराध बताकर पुलिस जेल भी भेजेगी तो जाने को तैयार हूं.

whatsapp share facebook share twitter share telegram share linkedin share
Related News
Latest News